English

 

‘मैं भी आशा’ वीडियो मिशन इंद्रधनुष के तहत (या अंतर्गत) हैल्‍थ वर्कर की जिंदगी के एक दिन की झलक दिखाने के लिए बनाया गया है। इस वीडियो में सामाजिक कार्यकर्ता, टि्वटर इंफ्लूअंसर (टि्वटर पर सक्रिय या प्रभावी) और तीन बच्‍चों की मां नताशा बधवार को दिखाया गया है, जो शहर के लोगों को यह बताने के लिए आशा बहनजी के साथ एक पूरा दिन बिताती है कि हरेक बच्‍चे और गर्भवर्ती महिलाओं का सम्‍पूर्ण टीकाकरण करने की कोशिश करते समय हैल्‍थ वर्कर्स को किन-किन दिक्‍कतों का सामना करना पड़ता है।

 

 

भारत की स्वास्थ्य प्रणाली, स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव का सामना कर रहे लोगों की जरूरते पूरी करने की कोशिशों में जी-जान से जुटे लोगों का नेटवर्क है।

ज़मीनी स्तर पर इसकी जिम्‍मेदारी तीन प्रमुख कार्यकर्ताओं- ‘3 ए‘(3 A’s) पर है:-

  • एएनएम (ANM) - (सहायक नर्स मिडवाइफ)
  • ए एस एच ए (ASHA) -आशा (प्रत्यायित सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता)
  • ए डब्ल्यू डब्ल्यू (AWW) -आंगनवाड़ी कार्यकर्ता

ये जमीनी स्‍तर पर स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं की जानकारी और सेवाएं देने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

मिशन इंद्रधनुष के तहत विशेष टीकाकरण अभियानों के संचालन की जिम्‍मेदारी इन्हीं तीनों स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ताओं पर है। मिशन की कामयाबी के लिए इन तीनों की भूमिका सबसे बढ़कर है।

  • टीकाकरण सत्र की योजना तैयार करना

    सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM), प्रत्यायित सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (ASHA) और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता (AWW) की मदद से टीकाकरण सत्रों की माइक्रो प्लानिंग करती हैं। इलाके की सभी माताओं और बच्चों के नामों की गिनती करती हैं। यह काम सभी गांवों और टोलों समेत सब-सेंटर एरिया (Sub-center area) का मैप तैयार करके बड़ी सावधानी से किया जाता है।

    आंगनवाड़ी कार्यकर्ता (AWW) और प्रत्यायित सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (ASHA) गांव के लोगों में से ही होती हैं, इसलिए उनके पास गर्भवती महिलाओं और बच्चों के टीकाकरण के बारे में अहम रिकॉर्ड होते हैं। हरेक सत्र से पहले, इसी रिकॉर्ड के आधार पर ‘ड्यू लिस्ट’ (due-list) तैयार की जाती है।

    इसके बाद प्रत्यायित सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (ASHA) और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता (AWW) की मदद से सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM) पंचायत के सदस्यों, स्कूली शिक्षकों और गांव के बुजुर्गों को सम्‍पूर्ण टीकाकरण की महत्‍वपूर्ण जानकारी देती है। उन्‍हें बच्‍चों का सम्‍पूर्ण टीकाकरण कराने के लिए प्रेरित करती हैं और उन्हें इकट्ठा करती हैं।

  • टीकाकरण केंद्र पर कोल्ड चेन की व्यवस्था करना

    सम्पूर्ण टीकाकरण कार्यक्रम (UIP) में सुरक्षा के बेहतरीन उपाय किये जाते हैं। कोल्ड चेन के रखरखाव में सावधानी सबसे प्रमुख सुरक्षा उपाय है।

    सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM) इस बात का ध्‍यान रखती है कि टीकों को फोर कन्डीशन्ड आइस पैक्स वाले वैक्सीन कैरियर में लाया जाए, उन्हें छाया में रखा जाए और बार-बार न खोला जाए। इससे उनका टेम्परेचर बनाए रखने में मदद मिलती है, जिससे टीकों का प्रभाव बना रहता है।

    सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM) टीकाकरण से पहले, टीकों के इस्तेमाल की आखिरी तारीख और वीवीएम (VVM) लेबल की जांच के लिए टीकों की शीशियों पर चिपके लेबल्स की जांच करती है।

  • टीकाकरण सत्र का आयोजन

    टीकाकरण सत्र वाले दिन सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM) टीकाकरण वाली जगह सारी तैयारियां सुनिश्चित करती है।

    वह माताओं का अभिवादन करती है, बच्चे के टीकाकरण के रिकॉर्ड और आयु की जांच करती है और उन्हें समझाती है कि बच्चे को कौन सा टीका लगेगा और उस टीके से किस बीमारी की रोकथाम होगी। कड़े सुरक्षा उपायों के तहत, सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM) प्रत्येक टीके के लिए ऑटो डिस्पोजेबल सिरिंज (Auto-Disable (AD) syringes) का इस्तेमाल करती है। वह इस्तेमाल की गई सभी सुइयों और सिरिंजों को दिशानिर्देशों के मुताबिक सुरक्षित तरीके से नष्‍ट कर देती है।

    टीकाकरण के बाद बच्चे को आधे घंटे तक निगरानी में रखा जाता है। सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM), अभिभावक को टीके के बारे में जरूरी जानकारी देती है। टीके के बाद होने वाले हल्के बुखार और उसके उपचार के बारे में बताती है।वह टीकाकरण कार्ड में अगले टीके की तारीख दर्ज करती है। उन्हें बताती है कि अगली बार टीका लगवाने कब आना है।

  • रिकॉर्डिंग, रिपोर्टिंग एवं निगरानी

    बच्चों को टीके लगाने के साथ ही साथ सहायक नर्स मिडवाइफ (ANM), सावधानी से ड्यू लिस्ट (Due list) के मुताबिक, सभी टीकाकरणों के रिकॉर्ड का मिलान करती है। वह आंगनवाड़ी कार्यकर्ता (AWW) और प्रत्यायित सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (ASHA) को बताती है कि किस बच्‍चे को टीका नहीं लगा, ताकि वे उनका पता लगाकर सब-सेंटर (Sub -Center) में मॉनिटरिंग चार्ट बना सके। साथ ही बीमारियों के सभी संदिग्ध मामलों की जानकारी स्वास्थ्य अधिकारी को दे सकें।